नील बाउडेटे. एक वर्ष पहले अमेरिका की मोटर इंडस्ट्री और टेक्नोलॉजी कंपनियों के प्रमुख केंद्र- डेट्रॉयट और सिलिकॉन वैली ने 2019 में हजारों सेल्फ ड्राइविंग टैक्सियां सड़क पर उतारने का सपना देखा था। इस तरह सेल्फ ड्राइविंग कारों के युग की शुरुआत की उम्मीद की जा रही थी। लेकिन, इनमें से अधिकतर कारें नहीं आई हैं। इनके कुछ वर्ष तक आने की संभावना नहीं है। कई कार निर्माताओं और टेक कंपनियों का निष्कर्ष है, जितना हमने सोचा था, ऑटोनोमस वाहन बनाना उससे अधिक मुश्किल, धीमा और महंगा होने वाला है।

 

ड्रेटॉयट इकोनॉमिक क्लब में फोर्ड के सीईओ जिम हैकेट ने कहा, हमने ऑटोनोमस वाहनों के आने के संबंध में गलत अनुमान लगा लिया। इस बीच फोर्ड और फॉक्सवैगन ने कहा है, वे सेल्फ ड्राइविंग की चुनौती का मिलकर सामना करेंगे। दोनों ऑटो निर्माताओं की योजना पिट्सबर्ग की एक कंपनी आर्गो एआई से राइड शेयरिंग सेवाएं 2021 तक शुरू करने के लिए ऑटोनोमस वाहनों की टेक्नोलॉजी लेने की है। लेकिन, कंपनी के सीईओ ब्रायन सालेस्की कहते हैं, कहीं भी जाने में सक्षम बिना ड्राइवर की कार बनाने का सपना तो भविष्य की बात है। वे और अन्य लोग देर का कारण अड़ियल मानवीय व्यवहार को मानते हैं।

 

आर्गों के शोधकर्ताओं का कहना है, वे पिट्सबर्ग और मियामी में जिन कारों की टेस्टिंग कर रहे हैं उन्हें हर दिन असंभाव्य हालात से गुजरना पड़ता है। अभी हाल में एक व्यस्त सड़क पर कंपनी की कारों का सामना गलत जगह से आ रहे एक साइकिल राइडर से हुआ। एक अन्य कार के सामने ग्रीन लाइट के बीच एक स्वीपर आ गया था। सालेस्की कहते हैं, सड़क पर हर तरह के अजीब मामले सामने आते हैं। रडार, हाई रिजोल्यूशन कैमरा और कंप्यूटिंग से हम सड़क पर किसी वस्तु को खोज और पहचान सकते हैं। यह अनुमान लगाना मुश्किल होता है कि लोग आगे क्या करने जा रहे हैं।

 

एक वर्ष पहले ऑटो इंडस्ट्री के अधिकारी आशा करते थे कि इस वर्ष कुछ शहरों में सेल्फ ड्राइविंग कारें चलने लगेंगी। गूगल की मूल कंपनी अल्फाबेट की कंपनी वेमो ने कहा था, वह अपनी राइड सेवाओं के लिए 62000 क्रिसलर मिनी वैन और 20000 जगुआर इलेक्ट्रिक कारें खरीदेगी। जनरल मोटर्स ने स्टीयरिंग व्हील और पैड विहीन वाहनों की टैक्सी सेवा इस वर्ष के अंत तक शुरू करने की घोषणा की है। ये वाहन कंपनी का क्रूज डिवीजन बना रहा है। क्रूज में होंडा और जापानी टेक दिग्गज सॉफ्ट बैंक ने पैसा लगाया है। अमेजन की कंपनी आरोरा सेल्फ ड्राइविंग वाहन बना रही है। उसकी योजना इन वाहनों से माल डिलीवरी करने की है।

 

सेल्फ ड्राइविंग कारों में इंडस्ट्री का भरोसा डिगने का कारण दुर्घटनाएं हैं। पिछले वर्ष उबर की एक सेल्फ ड्राइविंग कार से अमेरिका में साइकिल लेकर पैदल जा रही एक महिला की मौत हो गई थी। ऑटो पायलट से कार चला रहे टेस्ला के तीन ड्राइवर दुर्घटनाओं में मारे जा चुके हैं।

 

सेल्फ ड्राइविंग कारों का 20 फीसदी जरूरी काम बाकी

 

आर्गो एआई के प्रमुख सालेस्की बताते हैं, आर्गो और अन्य कंपनियों ने सेल्फ ड्राइविंग कारों का इस्तेमाल शुरू करने के लिए जरूरी 80% टेक्नोलॉजी का विकास कर लिया है। सड़कों, हाईवे पर वस्तुओं को दूर से पहचानने वाले रडार, कैमरे और सेंसर बना लिए हैं। लेकिन, बाकी 20% टेक्नोलॉजी नहीं बन पाई है। ऐसे सॉफ्टवेयर नहीं बने हैं जो अनुमान लगा सकें कि अन्य ड्राइवर, राहगीर और साइकल सवार आगे क्या करने जा रहे हैं। यह बहुत ज्यादा कठिन है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here