• पाकिस्तान के विदेश मंत्री बोले- भारत के अस्थाई सदस्य बनने से आसमान नहीं फट पड़ेगा
  • एशिया प्रशांत क्षेत्र में भारत अकेला ऐसा देश है जिसका निर्विरोध चुना जाना तय है

दैनिक भास्कर

Jun 18, 2020, 12:45 AM IST

इस्लामाबाद. भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) का 8वीं बार अस्थाई सदस्य चुना गया। हालांकि, पाकिस्तान इससे परेशान है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह मोहम्मद कुरैशी ने कहा- यूएनएससी में भारत की अस्थाई सदस्यता हमारे लिए चिंता का विषय है। 

उन्होंने कहा- भारत हमेशा इस मंच से उठाए जाने वाले प्रस्तावों को खारिज करता रहा है। खासकर कश्मीर जैसे मुद्दों को। कश्मीरियों को उनके हक नहीं दिए गए और उनका दमन जारी है। हालांकि, भारत के अस्थाई सदस्य बनने से कोई आसमान नहीं फट पड़ेगा। पाकिस्तान भी सात बार अस्थाई सदस्य रह चुका है।

भारत के नागरिकता कानून का जिक्र 

विदेश मंत्री कुरैशी ने कहा- हम सुरक्षा परिषद और इस्लामिक सहयोग संगठन को कश्मीरियों के खराब हालात की जानकारी देते रहे हैं। भारत ने 5 अगस्त को आर्टिकल 370 हटाया। लेकिन, कश्मीरी इसको नहीं मानते। महामारी के नाम पर वहां अवैध तलाशी अभियान जारी है। नागरिकता कानून के जरिए अल्पसंख्यकों को टारगेट किया जा रहा है। 

क्यों चुने जाते हैं अस्थाई सदस्य

सुरक्षा परिषद में अस्थाई सदस्य चुनने का मकसद यह होता है कि वहां क्षेत्रीय संतुलन बना रहे। अफ्रीका और एशिया-प्रशांत देशों के लिए तय दो सीटों पर तीन उम्मीदवार जिबूती, भारत और केन्या हैं।  

ऐसे होता है चुनाव
193 सदस्यों वाले संयुक्त राष्ट्र में भारत को जीत के लिए दो-तिहाई यानी 128 सदस्यों का समर्थन चाहिए। सदस्य देश सीक्रेट बैलेट से वोटिंग करते हैं। भारत का कार्यकाल 1 जनवरी से शुरू होगा।  

भारत कब-कब अस्थाई सदस्य चुना गया
 भारत आठवीं बार सुरक्षा परिषद का अस्थाई सदस्य चुना जा रहा है। इसके पहले 1950-51, 1967-68, 1972-73, 1977-78, 1984-85, 1991-92 और 2011-12 में भारत यह जिम्मेदारी निभा चुका है। 

निर्विरोध चुना जाना तय हो गया था

एशिया प्रशांत क्षेत्र से चीन और पाकिस्तान समेत 55 देशों ने पिछले साल जून में समर्थन दिया था। ऐसे में भारत का निर्विरोध चुना जाना तय हो चुका था। समर्थन देने वाले एशिया पैसिफिक देशों में अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, चीन, इंडोनेशिया, ईरान, जापान, किर्गिस्तान, मलेशिया, मालदीव, म्यांमार, नेपाल, पाकिस्तान, कतर, सऊदी अरब, श्रीलंका, सीरिया, तुर्की, यूएई और वियतनाम शामिल हैं।

सुरक्षा परिषद में कुल 15 देश

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कुल 15 देश हैं। इनमें पांच स्थायी सदस्य हैं। ये हैं- अमेरिका, रूस, फ्रांस, ब्रिटेन और चीन। 10 देशों को अस्थाई सदस्यता दी गई है। हर साल पांच अस्थायी सदस्य चुने जाते हैं। अस्थाई सदस्यों का कार्यकाल दो साल होता है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here