कुछ समय पहले Google Maps पर भारत के 30 शहरों के पब्लिक फूड शेल्टर और नाइट शेल्टर यानी रैन बसेरों को लिस्ट किया गया था। इसी नक्शे-कदम पर चलते हुए अब दिल्ली सरकार ने भी गूगल मैप के साथ हाथ मिला लिया है। COVID-19 यानी कोरोना वायरस के चलते देशव्यापी लॉकडाउन को 14 अप्रैल से अब 3 मई तक बढ़ा दिया गया है। ऐसे में इस लॉकडाउन से प्रभावित लोगों की मदद के लिए दिल्ली सरकार ने 1,000 से भी ज्यादा पब्लिक फूड शेल्टर और नाइट शेल्टर यानी रैन बसेरों का इंतज़ाम किया है। इन स्थानों को अब आप गूगल मैप और Map My India भी देख सकते हैं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट में बताया कि लॉकडाउन की समयसीमा आगे बढ़ते देख, अब वह Google India Maps के साथ मिलकर काम करेंगे। ताकि जरूरतमंदों को खाने और रहने की जगहें आसानी से मिल सके। केजरीवाल का कहना है कि वह लॉकडाउन से प्रभावित हर इंसान की मदद करने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं।

 

आपको बता दें कि पहले Delhi Urban Shelter Improvement Board द्वारा संचालित 223 रैन बसेरों को प्रभावित लोगों के लिए खोल दिए गए थे, ताकि उनके भोजन और रहने संबंधी परेशानी को दूर किया जा सके।

हालांकि, बाद में सरकार 1,500 से ज्यादा फूड डिस्ट्रिब्यूशन सेंटर्स के साथ-साथ अस्थाई रैन बसेरों को भी उन प्रवासी मजदूरों के लिए खोल दिया, जो कि शहर को छोड़कर अपने गांव जा रहे थे।

सरकार ने अपने एक बयान में कहा, “आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार ने वॉलंटियर और रिसर्चर टीम के साथ मिलकर इन राहत केंद्रों की मैपिंग गूगल पर की है। दिल्ली सरकार ने गूगल के साथ साझेदारी करके शुरुआती रूप में 1,047 रैन बसेरों और फूड शेल्टर्स की मैपिंग गूगप मैप पर की है, जिसमें रोजाना और अधिक जगहें जुड़ती रहेंगी।” आसानी से कोई भी अपने नजदीकी दिल्ली सरकार रैन बसेरों व फूड शेल्टर्स को गूगल मैप पर सर्च कर सकता है। इसके लिए बस आपको ”food shelters near me” सर्च बॉक्स में सर्च करना है।

गूगल इंडिया ने अपने बयान में कहा कि दिल्ली और 32 शहरों में जरूरतमंद के लिए फूड और नाइट शेल्टर खोजे जा सकते हैं।

 

गूगल मैप की तरह दिल्ली सरकार ने मैप माई इंडिया के साथ भी साझेदारी की है, इन जगहों को आप गूगल मैप के साथ माई मैप इंडिया पर भी सर्च कर सकते हैं।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here