दैनिक भास्कर

Oct 04, 2019, 06:40 PM IST

ऑटो डेस्क. मोनाको याट शो में डच कंपनी सिनोट ने दुनिया का पहला हाइड्रोजन से चलने वाले सुपरयॉट को शोकेस किया। फिलहाल इसे कॉन्सेप्ट मॉडल के तौर पर पेश किया गया है। कंपनी ने इसे एक्वा नाम दिया है। यह 112 मीटर लंबा है। यह यॉट पूरी तरह से लिक्विड हाइड्रोजन पर चलता है।

याट पर मिनी वॉटरफॉल भी है

सुपरयाट एक्वा लिक्विड हाइड्रोजन पर चलता है। इसे अत्याधिक कम तापमान पर स्टोर करने की जरूरत होती है। इसके फ्यूल को 28 टन क्षमता वाले दो वैक्यूम आइसोलेटेड टैंक में स्टोर किया जाता है।

इसमें घुमावदार सीढ़ियां है, जो सीधे सबसे नीचे वाले फ्लोर पर जाती है, जहां फ्यूल को मजबूत ग्लास के बीचोंबीच बने टैंक में सुरक्षित रखा जाता है।

इसे खास तरीके से डिजाइन किया गया है जिससे लिक्विड हाइड्रोजन का तापमान माइनस 253 डिग्री सेल्सियस पर मेंटेन रख सके।

पांच फ्लोर वाले इस सुपरयाट की क्षमता 45 लोगों की है, जिसमें 14 गेस्ट और 31 क्रू मेंबर्स शामिल है। फुल फ्यूल में यह 6945 किमी. तक चलता है। इसकी टॉप स्पीड 31 किमी. प्रतिघंटा है।

प्रोटोन एक्सचेंज मेम्ब्रेन (पीईएम) फ्यूल सेल की मदद से लिक्विड हाइड्रोजन को इलेक्ट्रिकल एनर्जी में बदला जाता है। इसमें पानी को बाय-प्रोडक्ट की तरह इस्तेमाल किया जाता है।

यह टैंक 4 MW तक का पावर जनरेट करता है। जो दो 1 MW इलेक्ट्रिक प्रोपल्शन मोटर्स और दो 300kW बो थ्रस्टर्स को ताकत देते हैं। इसमें 1.5 MWh बफर की तरह काम करता है जो शिप के अन्य इलेक्ट्रिक प्रोडक्ट को पावर देती है। यह फ्यूल सेल की मदद से चार्ज होती है।

सुपरयाट पर इनडोर हेल्थ और वेलनेस सेंटर है, जिसमें जिम, हाइड्रो मसाज रूम और योगा स्टूडियो है। इसमें एक मिनी वाटरफॉल भी है।

इसका इंटीरियर जापानी संस्कृति से इंस्पायर्ड है। इसमें ऑप्शनल हेलीपैड भी है, जहां हाइड्रोजन पावर्ड EVTOL मेहमानों को ड्रॉप करेगा।

 

DBApp



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here