वीवो अब दुनिया के टॉप 5 स्मार्टफोन वेंडर की सूची का हिस्सा बन गई है। इस सफ़र को अद्भुत कहना गलत नहीं होगा। चीन की इस स्मार्टफोन निर्माता कंपनी ने 2009 में दुकान खोलने से लेकर अब तक लंबा सफर तय किया है। वह अपनी प्रीमियम छवि के जरिए भारतीय मार्केट में ख़ास जगह बनाने में भी कामयाब रही है।
 

vivo_v3max_main2_ndtv

कंपनी ने हाल में हैंडसेट वीवो वी3 और वी3मैक्स पेश किए थे। इनकी कीमत क्रमशः 17,980 और 23,980 रुपये है। वी3 को ‘वैल्यू फॉर मनी’ सेगमेंट का हिस्सा मानना गलत नहीं होगा। वहीं, महंगा वी3मैक्स परफॉर्मेंस और स्पेसिफिकेशन के लिहाज से शानदार है। आज हम वीवो वी3मैक्स को रिव्यू करेंगे। इसके ज़्यादातर फ़ीचर मिड-रेंज स्मार्टफोन वाले हैं, लेकिन यह पावरफुल चिपसेट से लैस है। आइए वीवो वी3मैक्स के बारे में विस्तार से जानते हैं।
 

vivo_v3max_main_ndtv

लुक और डिज़ाइन
वीवो वी3मैक्स कहीं से भी छोटा फोन नहीं है। इसमें 5.5 इंच का स्क्रीन है और वज़न 168 ग्राम है। इसे फैबलेट कहना गलत नहीं होगा, यह आसानी से फोन हैंडल करने की चाहत रखने वालों के लिए तो बिल्कुल नहीं है। इसकी बॉडी मेटल की है। हालांकि फिनिश थोड़ा उदासीन है।

फोन के अगले हिस्से में छोटा सा वीवो का लोगो टॉप में नज़र आएगा। इसके अलावा फ्रंट कैमरा और प्रॉक्सिमिटी सेंसर भी टॉप में हैं। कैपेसिटिव बटन नीचे की ओर हैं। अफसोस की बात यह है कि वे बैकलिट नहीं हैं। ऐसे में इन्हें अंधेरे में इस्तेमाल कर पाना उतना आसान नहीं है।
 

vivo_v3max_logo

फोन की दायीं तरफ पावर और वॉल्यूम के बटन हैं और बायीं तरफ हाइब्रिड सिम ट्रे। टॉप पर 3.5 एमएम वाला सॉकेट है और निचले हिस्से में माइक्रो-यूएसबी पोर्ट, माइक्रोफोन और स्पीकर हैं।

फोन के पिछले हिस्से पर मौजूद है कैमरा, फ्लैश, वीवो लोगो और फिंगरप्रिंट सेंसर। सेंसर अपना काम बखूबी करता है। आप सेंसर में 5 फिंगरप्रिंट तक ही स्टोर कर पाएंगे। फोन को बिना एक्टिव किए ही अनलॉक करना संभव है।

फोन का स्क्रीन फुल-एचडी है। यह बेहद ही शार्प है और ज्यादा रोशनी में स्क्रीन पर कुछ भी पढ़ पाने में ज़्यादा दिक्कत नहीं होती। कलर वाइब्रेंट और उपयुक्त हैं।
 

vivo_v3max_back_ndtv

स्पेसिफिकेशन और सॉफ्टवेयर
वीवो वी3मैक्स में नए ऑक्टा-कोर क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 652 चिपसेट का इस्तेमाल किया गया है। स्नैपड्रैगन 652 बेहद ही सक्षम मिड-रेंज चिपसेट है। क्वालकॉम का दावा है कि इसकी परफॉर्मेंस फ्लैगशिप ग्रेड वाली है। इसमें 4 जीबी रैम है जो परफॉर्मेंस को और मजबूती देने का काम करेगा। इनबिल्ट स्टोरेज 32 जीबी है जिसे माइक्रोएसडी कार्ड (128 जीबी तक) के जरिए बढ़ाया जा सकता है।

फोन में 3000 एमएएच की बैटरी है और इसमें यूएसबी ओटीजी के लिए सपोर्ट भी मौजूद है। अफ़सोस की बात यह है कि आप एक वक्त पर दो सिम कार्ड या एक सिम कार्ड और माइक्रोएसडी कार्ड ही इस्तेमाल कर पाएंगे। बैटरी को जल्दी चार्ज़ करने के लिए फोन में डुअल-इंजन चार्ज़िंग फ़ीचर दिया गया है।
 

vivo_v3max_chin_ndtv

वी3मैक्स स्मार्टफोन एंड्रॉयड 5.1 पर चलता है जिसके ऊपर वीवो के कस्टम फनटच ओएस 2.5 का इस्तेमाल किया गया है। यह अन्य एंड्रॉयड स्मार्टफोन की तुलना में बहुत अलग है। क्योंकि फनटच को ऐसे डिजाइन किया गया है वो आईओएस वाला एहसास दे। ख़ासकर सेटिंग्स ऐप अन्य एंड्रॉयड फोन के सेटिंग्स बहुत अलग है।

इसमें कोई दोमत नहीं है कि यह एक एंड्रॉयड फोन है। लेकिन ज्यादातर मौकों पर ऐसा प्रतीत होता है कि आईओएस की नकल करने की कोशिश की गई है। अगर आप एंड्रॉयड इस्तेमाल करने के आदी हो चुके हैं तो आपको वीवो वी3मैक्स के ओएस से रूबरू होने में वक्त लगेगा।
 

vivo_v3max_bottom_ndtv

कैमरा
वीवो वी3मैक्स में 13 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा है और साथ में सिंगल टोन एलईडी फ्लैश भी। इसके साथ 8 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा भी मौजूद है। दोनों ही कैमरे से आप 1080 पिक्सल के वीडियो रिकॉर्ड कर पाएंगे। इसके अलावा ये पनोरमा, स्लो मोशन और एचडीआर जैसे लोकप्रिय वीडियो और फोटो मोड से भी लैस हैं।

कैमरा ऐप में सादगी का ख़ास ख्याल रखा गया है। इसके अलावा इसे इस्तेमाल करने में ताज़गी का एहसास होता है। अहम कंट्रोल तक पहुंच पाने में ज्यादा दिक्कत नहीं होती। इसमें कोई सेटिंग्स मेन्यू नहीं है। मैनुअल मोड भी मौजूद है जिससे आपको फोटोग्राफी का ज्यादा कंट्रोल मिलता है।
 

vivo_v3max_camerashot

वीवो वी3मैक्स से ली गई तस्वीरें बेहद ही शार्प और ब्राइट आईं। लेकिन कलर थोड़े से उदास और उत्साहित नहीं करने वाले लगे। तस्वीरों में डिटेल की कोई कमी नहीं थी। ज्यादा ज़ूम करने पर वे टूटती भी नहीं हैं।

कैमरे से गतिमान ऑब्जेक्ट को कैपचर करने में दिक्त होती है। यह ज्यादातर मौकों पर ब्लर हो जाता है। वीडियो ठीक ठाक रिकॉर्ड हुए। कुल मिलाकर ज्यादार मौकों पर तस्वीरें शार्प आईं, लेकिन उन्हें शानदार नहीं कहा जा सकता।
 

vivo_v3max_camerashot

परफॉर्मेंस
परफॉर्मेंस के मामले में वीवो वी3मैक्स दिल जीतने में कामयाब करता है। यह इस प्राइस रेंज के ज्यादातर फोन की तुलना में बहुत आगे है। मुश्किल कामों को यह फोन आसानी से पूरा करता है। इस पर गेम खेलना तो और भी मज़ेदार है। ऐसा 4 जीबी रैम होने के कारण संभव हो पाया। इसकी मदद से एक वक्त में कई ऐप चलते रहते हैं लेकिन असर परफॉर्मेंस पर नहीं पड़ता। हैंडसेट के बेंचमार्क टेस्ट रिजल्ट भी बेहतरीन हैं। मज़ेदार बात यह है कि इस किस्म के मिडरेंज स्मार्टफोन बड़ी ही आसानी से फ्लैगशिप फोन को परफॉर्मेंस के मामले में पछाड़ने में कामयाब होते हैं।

फोन की बैटरी वीडियो लूप टेस्ट में 11 घंटे 36 मिनट तक चली। आम इस्तेमाल पर यह आसानी से एक दिन तक चल जाएगी।
 

vivo_v3max_right

यह फोन गेम खेलने और चार्ज़िंग के वक्त थोड़ा गर्म ज़रूर हो जाता है। 4जी और वाई-फाई कनेक्टिविटी फ़ीचर बेहतरीन काम करते हैं। फोन को नेटवर्क से जुड़े रहने में दिक्कत नहीं होती।

हमारा फैसला
वीवो वी3मैक्स एक बेहद ही सक्षम मिड-रेंज स्मार्टफोन है जो सभी डिपार्टमेंट में बाजी मारने में कामयाब होता है। इसकी बनावट अच्छी है। फिंगरप्रिंट सेंसर तेज और सटीक काम करता है। स्क्रीन अच्छा है और परफॉर्मेंस भी बेहतरीन है। बैटरी लाइफ भी संतोषजनक है। कैमरा डिपार्टमेंट की कुछ कमियों को नज़रअंदाज कर दिया जाए तो यह फोन हर विभाग में अच्छे अंकों से पास होता है। बस…हमारी शिकायत वीवो वी3मैक्स की कीमत से है। यह प्रोडक्ट से बिल्कुल मेल नहीं खाती।

वी3मैक्स की सबसे सही तुलना शाओमी रेडमी नोट 3 से होगी जो आधी कीमत में ही मिल जाता है। अगर आप फोन के लिए 25,000 रुपये खर्चने की चाहत रखते हैं तो शाओमी एमआई 5 (रिव्यू) ज्यादा बेहतर पैकेज है।

इसके अलावा मार्केट में कई ऐसे फोन हैं जो कम पैसे में ऐसा ही अनुभव देते हैं, जैसे कि लेनोवो वाइब एक्स3, गूगल नेक्सस 5एक्स और वनप्लस 2। हालांकि, अगर आप एक ऐसे एंड्रॉयड फोन की तलाश में हैं जो आईओएस इस्तेमाल करने का एहसास दे और उसकी परफॉर्मेंस भी अच्छी हो तो वीवो वी3मैक्स के बारे में विचार करना गलत नहीं होगा।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here