Ola और Uber ने कोरोनवायरस वायरस के प्रकोप के बीच भारत में ‘पूल’ सर्विस को अस्थाई रूप से बंद कर दिया है। बता दें कि पूल सर्विस में यूज़र्स अन्य यूज़र्स के साथ राइड को साझा कर सकता है। यह सस्ती राइड होती है और भारत में बड़ी तादात में इस्तेमाल की जाती है। हालांकि कोरोनावायरस के संक्रमण को कम कर करने के लिए कंपनी ने राइड शेयरिंग मोड को बंद कर दिया है। सरकार और सभी प्राइवेट कंपनियां अपने कर्मचारियों को घर से काम करने और बाहर ना घूमने के लिए प्रेरित कर रही है। ऐसे में ओला और ऊबर भी इस कदम को अपना रहे हैं और सोशल डिस्टेंसिंग नियम का पालन करते हुए राइड शेयरिंग को अस्थाई रूप से बंद कर रही है। हालांकि यूज़र्स ओला और उबर दोनों ऐप में गैर-पूल राइड कर सकते हैं।

देश में 250 से अधिक लोगों को प्रभावित करने वाले COVID-19 के प्रकोप के दौरान यूज़र्स को सुरक्षित रहने के लिए और साफ सफाई बनाए रखने के लिए कैब कंपनियां लगातार नोटिफिकेशन और मैसेज भेज रही हैं।

ओला ने Gadgets 360 को एक बयान में कहा, (अनुवादित) ‘Covid ​​-19 के संक्रमण को रोकने के हमारे प्रयासों में, हम अस्थायी रूप से ‘ओला शेयर’ विकल्प को अगले नोटिस तक निलंबित कर रहे हैं।”

ओला ऐप ने शेयर विकल्प को पूरी तरह से हटा दिया है। हालांकि, यूज़र्स अभी भी अन्य कैब विकल्पों जैसे कि माइक्रो, मिनी, प्राइम, और एक्सेक आदि को बुक कर सकते हैं। कंपनी ने अपने रेंट और आउटस्टेशन विकल्पों को भी चालू रखा है।

ओला की तरह ही ऊबर भी अपने प्लेटफॉर्म पूल राइड की बुकिंग नहीं ले रही है, लेकिन ऐप में पूल का विकल्प दिखाई दे रहा है।

इससे अलग बता दें कि ओला ने शनिवार को COVID-19 से प्रभावित अपने चालक भागीदारों और उनके जीवनसाथी के लिए 30,000 रुपये का कवरेज देने की घोषणा की है। इसके अलावा अधिकतम 21 दिनों के लिए 1,000 रुपये का दैनिक मुआफजा भी देने का वादा किया है। कंपनी ने अपने ड्राइवर भागीदारों और परिवार के सदस्यों को मुफ्त चिकित्सा सहायता प्रदान करने के लिए ऑनलाइन डॉक्टर कंसल्टेशन ऐप Mfine के साथ भागीदारी भी की है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here