ऐप्पल ने आखिरकार सोमवार को 4 इंच स्क्रीन वाला आईफोन एसई लॉन्च कर दिया। आईफोन एसई देखने में पांच साल पुराने आईफोन 5एस की तरह है लेकिन इसके स्पेसिफिकेशन आईफोन के वर्तमान फ्लैगशिप स्मार्टफोन आईफोन 6एस और आईफोन 6एस प्लस जैसे हैं।

ऐप्पल का यह लॉन्च इवेंट क्यूपर्टिनो के ऐप्पल कैंपस में आयोजित हुआ और ऐप्पल के पिछले लॉन्च इवेट के मुकाबले यह एक छोटा इवेंट था। गैजेट 360 ने ऐप्पल इवेंट से लगातार आपको लाइव अपडेट पहुंचाया। इसी इवेंट में हमें नए आईफोन एसई और नए आईपैड प्रो के साथ कुछ समय बिताने का मौका मिला।  यहां जानें कि इस दौरान नए आईफोन डिवाइस के साथ कैसा अनुभव हुआ।

अगर आप आईफोन 6एस प्लस जैसे बड़े फोन को इस्तेमाल करना पसंद करते हैं तो आपको आईफोन एसई वाकई आपको थोड़ा हल्का लगेगा। पहली बार आईफोन एसई को हाथ में लेने पर हमें इसके इतना हल्का होने पर थोड़ा आश्चर्य ही हुआ। ऐसा लग रहा था कि हमने कोई बिना बैटरी वाला फोन हाथ में लिया है। सिर्फ 113 ग्राम वजन वाले आईफोन एसई हाथ में लेने पर बहुत हल्का लगता है। इसके साथ ही महसूस होता है कि हम बड़े, भारी फोन को इस्तेमाल करने के आदी हो चुके हैं। लेकिन आईफोन एसई का डिजाइन नया और बेजोड़ कहा जा सकता है।
 


 

आईफोन एसई आपको किसी भी ऐप्पल डिवाइस की तरह ही प्रीमियम डिवाइस होने का अहसास कराता है। लेकिन यह पिछली बार ऐप्पल द्वारा अफॉर्डेबल फोन बनाने की कोशिश में आईफोन 5सी की तरह बिल्कुल नहीं है। आईफोन एसई में कुछ भी प्लास्टिक का नहीं बना है। हाथ में लेने पर आईफोन एसई आपको सुखद अहसास देता है। हालांकि अब मेटल फिनिश और अच्छा डिजाइन बजट और मिड रेंज स्मार्टफोन में उतना मुश्किल नहीं है जितना यह एक-दो साल पहले तक हुआ करता था। इसलिए यह कहना छक होगा कि आईफोन एसई इसके डिजाइन और बॉडी, डिजाइन के मामले में कहीं आगे है।
 

बात करें फोन के फिजिकल डाइमेंशन की तो आईफोन एसई आपको आईफोन 5एस जैसा आभास तो दे सकता है लेकिन बात करें स्क्रीन-टू-बॉडी रेशियो की तो ऐप्पल की यह समस्या अभी भी जारी है। सभी एंड्रॉयड निर्माता कई आईफोन मॉडल साइज वाले अपने फोन में साथ बड़ी स्क्रीन देते हैं लेकिन आईफोन में इस बार भी टच आईडी सेंसर के साथ एक फिजिकल होम बटन है। हमने आईफोन 6एस और आईफोन 6एस प्लस के अपने रिव्यू में भी यह बात कही थी। अब देखना यह है कि आने वाले आईफोन मॉडल में यह समस्या हल हो पाती है या नहीं।

हमें आईफोन एसई में छोटे स्क्रीन के चलते हमें लगा कि टाइपिंग के समय अधिकतर स्क्रीन कीबोर्ड घेर लेगा और वास्तविक कंटेट के लिए बहुत थोड़ी जगह ही बचेगी, लेकिन जैसा कि आप तस्वीर में देख सकते हैं नए छोटे स्क्रीन वाले आईफोन एसई के साथ ऐसा देखने को नहीं मिला।
 

हमेशा की तरह ही ऐप्पल ने आईफोन एसई की बैटरी क्षमता का खुलासा नहीं किया। लेकिन आईफोन एसई में आईफोन 6 (10 घंटे) और आईफोन 6 प्लस (12 घंटे) की तुलना में एलटीई पर इंटरनेट चलाने के दौरान कम से कम 13 घंटे तक बैटरी चलने का दावा किया गया है।

ऐप्पल का कहना है कि आईफोन एसई को इस तरह डिजाइन किया गया है कि इसे एक हाथ से इस्तेमाल किया जा सके। ऐप्पल का यह दावा सही है और आईफोन एसई को एक हाथ से इस्तेमाल करने में हमें कोई परेशानी नहीं हुई। अब देखना यह है कि एक कॉम्पैक्ट डिवाइस के लिए कितने यूजर बड़े स्क्रीन और बड़ी बैटरी वाले स्मार्टफोन छोड़ते हैं। खासकर एशिया के बाजारों में ग्राहक बड़े स्क्रीन वाले पॉकेट साइज़ ‘फैबलेट’ का समर्थन करते हैं और अब देखना मजेदार होगा कि अगर आईफोन एसई जो कि कई तरह से ज्यादा पॉकेट फ्रेंडली है कितने यूजर को अपनी तरफ आकर्षित कर पाता है।  

आईफोन एसई की कीमत भारतीय बाजार में 39,000 रुपये से शुरू होगी और यह अप्रैल की शुरुआत से भारत में मिलना शुरू हो जाएगा। इससे पहले कंपनी ने आईफोन एसई की कीमत 30,000 रुपये बताई थी लेकिन नए प्राइस टैग के साथ फोन कितने लोगों को पसंद आता है यह आने वाले समय में ही पता चलेगा।

ज्ञात हो कि आईफोन एसई लॉन्च इवेंट में हिस्सा लेने गए हमारे संवाददाता का क्यूपर्टिनो में रहने का खर्चा ऐप्पल द्वारा उठाया गया है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here